स्टैमिना बढ़ाने के लिए बेस्ट डाइट और योग आसन

स्टैमिना बढ़ाने के लिए बेस्ट डाइट और योग आसन
SHARE IT

स्टैमिना किसी भी इंसान की फिज़ीक्ल और मैन्टल कामों को करने की सलाहियत को कहते हैं। कम मैन्टल स्टैमिना वाले लोगों को लंबे समय तक किसी भी काम पर ध्यान बनाए रखना मुश्किल हो सकता है और आसानी से उनका ध्यान भटक सकता है। इसी तरह, कम फिज़ीक्ल स्टैमिना वाले लोग, सीढ़ियों की चढ़ाई के दौरान थक सकते हैं। तो चलिए जानते है स्टैमिना बढ़ाने के लिए बेस्ट डाइट और योग आसन ।

ये भी पढ़ें

कम स्टैमिना होने से अक्सर लोगों को थकावट के बाद थकान महसूस होती है, और वे ऐनर्जी या ध्यान की कमी महसूस कर सकते हैं। अपने स्टैमिना को बढ़ाकर, कोई भी अपने ऐनर्जी लेवल को बढ़ाकर अपने दिन भर के सभी कामों को आसानी से कर सकते है। स्टैमिना बढ़ाने के बहुत से तरीके हैं इनमें सबसे अहम् हैं खाना और योगा।

स्टैमिना बढ़ाने के लिए क्या खाऐं

1. स्टैमिना बढ़ाने के लिए ब्राउन राईस

हालांकि कार्बोहाइड्रेट हमारे जिस्म के लिए ऐनर्जी का सबसे पहला और खास सोर्स हैं, लेकिन सभी कार्ब्स अच्छे नहीं होते हैं। बेहतर स्टैमिना के लिए, आपको जटिल कार्ब्स के अपने सेवन को बढ़ाने की ज़रूरत है। वे खून में धीरे-धीरे ऐनर्जी छोड़ने के लिए जाने जाते हैं। ब्राउन राइस दिल को पूरी तरह से फिट करता है। ब्राउन राइस जटिल कार्ब्स का एक बड़ा सोर्स है, यह फाइबर और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स में भी भरपूर होते है। सफेद चावल के मुकाबले, ब्राउन राईस में स्टार्च कम होता है, जिससे यह पचने में आसान होता है। दूसरे शब्दों में, आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करेगा, जिससे आपको पूरे दिन काम करने की ऐनर्जी मिलेगी।

2. स्टैमिना बढ़ाने के लिए अंडे

अंडे मांसपेशियों और जिस्म के नए सेल्स बनने और उनकी मरम्मत के लिए एक ज़रूरी नयूटरीएंटस है। स्टैमिना बढ़ाने के लिए प्रोटीन बहुत अहम है। वे न केवल कैलोरी को जलाने में मदद करते हैं, बल्कि एक तरह से हमें ऐक्टिव रहने के लिए किक भी देते हैं। अंडे में सबसे ज्यादा नैचुरल नयूटरीएंटस होने की वजह से ज़मीन मौजूद चीजों में प्रोटीन के सबसे बड़े सोर्स में गिना जाता है। अ़डे सभी नौ ज़रूरी अमीनो एसिड के साथ पैक है, एक दिन में एक अंडा थकान को दूर रखने के लिये ज़रूरी है।

3. मछली

ओमेगा – 3 फैटी एसिड जिस्म और दिमाग को किसी भी काम के लिए हर वक़्त ऐन्रजेटिक रखते हैं। ओमेगा – 3 फैटी एसिड की कमी की  वजह से आमतौर पर क्रोनिक थकान और मैमरी लौस जैसी कनडीशन पैदा होती है। ओमेगा -3 फैटी एसिड के तीन टाईप्स में से, दो – ई.पी.ए और डी.एच.ए – खास तौर से फैटी मछली में पाए जाते हैं, जैसे सालमन और टूना। वे प्रोटीन और विटामिन डी से भी भरपूर हैं। 

4. हरी पत्तेदार सब्जियां

स्टैमिना की कमी बहुत अच्छी तरह से आयरन की कमी भी हो सकती है। आयरन हीमोग्लोबिन बनाने के लिए एक ज़रूरी ऐलिमैन्ट है। जिस्म अपने रोजमर्रा के कामों को करने के लिए मेहनत करता है, क्योंकि हीमोग्लोबिन की कमी की वजह से जिस्म में ऑक्सीजन पूरा नहीं हो पाता है। हरी पत्तेदार सब्जियां आयरन और फाइबर से भरपूर होती हैं। वे आपके आर बी सी  की गिनती को बढ़ाते हैं, और जिस्म में खून और ऑक्सीजन के लेवल को बैलेंस करते हैं। हरी सब्जियां किसी भी तरह की ऐमरजेन्सी हालत से निपटने के लिए हमें तय्यार करती हैं।

5. खट्टे फल

किसी भी तरह के  इन्फैकशन को हराने का सबसे अच्छा तरीका है विटामिन सी की खुराक को बढ़ाना है। विटामिन सी से भरपूर खट्टे फल जिस्म से नुकसान देने वाली चीज़ों को साफ करते हैं और सुधार करके ऐनर्जी के लेवल के लेवल को बढ़ाने में मदद करते हैं। 

6. स्टैमिना बढ़ाने के लिए केला

स्नैकिंग थकान से लड़ने में मदद कर सकता है, बशर्ते आप इसे सही तरीके से करें। बजाय उन समोसे या चिप्स पर टकटकी लगाए रहने के, जो आपको अधिक सुस्त बनाते हैं, एक हैल्दी स्नैक को चुनें जो ऐनर्जी और नयूटरीएंटस से भरपूर है।

केले को सबसे अच्छा प्री-वर्कआउट स्नैक्स माना जाता है। पोटेशियम, जटिल कार्बोहाइड्रेट और फाइबर का एक अच्छा सोर्स है। इसके अलावा, वे डोपामाइन के लेवल को भी बढ़ाते हैं, जो जिस्म में फील-गुड हार्मोन है, जिससे काम करने के लिए थकावट कम होती है।

7. स्टैमिना बढ़ाने के लिए बादाम

जब भी आप अपने ऐनर्जी के लेवल को कम होते हुए महसूस करें, तो कुछ बादामों को तुरंत खाऐं। बादाम डाईजेशन को बढ़ाने में मदद करते हैं, जिससे आपकी स्टैमिना में सुधार होता है। रोज़ मुट्ठी भर बादाम खाना आपके जिस्म में हल्दी फैट का पावरहाउस हो सकता है, यह न केवल आपके दिमाग और हड्डियों को मजबूत रखता है, बल्कि वजन घटाने में भी मदद करता है।

स्टैमिना बढ़ाने के लिए किस योगा को करें

दिन भर ऐक्टिव, ऐन्रजेटिक और मजबूत बने रहने के लिए सात सबसे खास योगा।

1. बोट पोज़ – नाव आसन

फर्श पर पैरों और बाहों को फैलाकर एक योगा मैट पर सीधे बैठें। अपने हाथों को अपने कूल्हों से कुछ इंच पीछे रखें। जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं, अपने घुटनों को मोड़ें और अपने घुटनों को अपनी छाती के करीब लाते हुए पैरों को फर्श से उठाएं। धीरे-धीरे अपने घुटनों को अनबेंड करें और अपने पैर की उंगलियों को अपनी आंख के स्तर से ऊपर उठाएं। अपने पैरों के साथ बाहों को फैलाएं और सामने की तरफ देखें।

2. अपवर्ड फेसिंग बो पोज़ – उर्ध्व धनुर आसन

अपनी पीठ पर सीधे घुटने और कोहनी, हथेलियों को फर्श पर टिकाएं। अपने पैरों को फर्श में दबाएं और अपने टेलबोन को ऊपर उठाएं और पीछे की ओर उठें। अब, अपने हाथों को जमीन से सटाएं और अपने सिर को योगा मैट से ऊपर उठाएं। अपनी बाहों को फैलाएं, अपने कंधे के ब्लेड को फैलाएं और अपने सिर को नीचे लटकाएं। 5-7 साँस तक इस पोजीशन में रहें।

3. शलभासन योग

जमीन पर चेहरे के साथ फर्श पर लेटें। अपने पैरों को खुला रखें। अपनी बाहों को फैलाएं और अपने जिस्म और पैरों को एक साँस के साथ फर्श से 2-3 इंच ऊपर उठाएं। जांघों को बिना हिलाए योगा मैट से ऊपर उठाएं। थोड़ा सिर को पीछे की ओर झुकाएं और सामने की तरफ देखें।

4. कैमिल पोज़ – उष्ट आसन

पैरों के कूल्हे-चौड़ाई के साथ अपने घुटनों पर शुरू करें। अपने हाथों को अपने पैल्विक एरिया पर रखें। अपनी जांघों को अन्दर की तरफ घुमाए और अपने टेलबोन को घुटनों की ओर लंबा करें। सांस लें, अपनी पसली को फैलाऐं और, अपनी छाती को ऊपर उठाएं और अपने हाथों को एड़ी को पकड़ने के लिए वापस लाएं। अपनी नाक की सीघ में देखें।

5. फिश पोज़ – मत्स्यसन आसन

एक फिश की तरह लेट जाऐं। सांस लें और योगा मैट से अपनी पैल्विक को उठाएं। अब, इसके नीचे अपने हाथों को स्लाइड करें और अपने कूल्हों को अपनी हथेलियों के पीछे की तरफ आराम दें। अपने फोरआर्म्स और कोहनियों को एक साथ टिकाऐं। एक साँस के साथ, अपनी पीठ को जमीन पर आराम करते हुए सिर से आर्क बनाएें। ऐसा करते हुए अपनी गर्दन पर दबाव न डालें।

7. बो पोज़ – धनुष आसन

योगा मैट पर लेटें। अपने घुटनों को मोड़ें और एड़ी को अपने कूल्हों के करीब लाने के लिए अपने फोरलेग्स को बढ़ाएं। अपनी बाहों को पीछे करें और पैरों को हथेलियों से पकड़ें। अपनी एड़ी को कूल्हों से अलग उठाएं और साथ ही साथ अपनी जांघों को फर्श से ऊपर उठाएं।

8. गौडेस पोज़ – उत्कट कोण आसन

एक पहाड़ी पोज़ में शुरू करें। अपने पैरों को 3 इंच अलग फैलाएं। अपने पैर की उंगलियों को बाहर की ओर मोड़ें और हर पैर के साथ 45 डिग्री के ऐन्गल पर अंदर की ओर ऊँची एड़ी के जूते बनाएं। साँस छोड़ते हुए, अपने घुटनों को फर्श के बराबर जांघों और घुटनों के साथ मिला कर अपने घुटनों को मोड़ें। अपनी बाहों को सामने की ओर बढ़ाएं और अपनी कोहनी को 90 डिग्री के ऐन्गल पर उंगलियों से ऊपर की ओर मोड़ें। पांच गहरी सांसों तक इस पोज़ीशन में बने रहें।

फ्रेंड्स अगर आप को ये पोस्ट अच्छी लगी तो कमेंट करके ज़रूर बताएंI आप अगर स्टैमिना बढ़ाने के और भी तरीके जानते हैं तो शेयर कर सकते हैI आशा है आपको ये सारे टिप्स पसंद आऐंगे। और ज़्यादा ब्यूटी टिप्स और फिटनेस टिप्स को जानने के लिए मेरा यूट्यूब चैनल ” Beautiful You ” ज़रूर चेक करें। किसी भी सवाल या जवाब के लिए कमेंट बॉक्स में लिखें।

Leave a Reply